सेना के लिए APACHE और F-16 फाइटर बनाएंगे टाटा, बोले-भारत को हथियारों की कमी नहीं होने दूंगा !

New Delhi: भारत में रक्षा प्रौद्योगिकी के विकास में देश के दो बड़े बिजनेस टायकून्स उतर चुके हैं। जहां एक ओर मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस डिफेंस मिसाइल निर्माण में इजराइली कंपनी राफेल के साथ मिलकर मिसाइलों के निर्माण में जुटे हैं, वहीं रक्षा क्षेत्र में पुरानी कंपनी टाटा अब हेलीकॉप्टर और विमान बनाने में जुटी हुई है।

हाल ही में अमेरिका के साथ एफ-16 फाइटर प्लेन के भारत में निर्माण को लेकर डील हुई थी। एफ-16 बनाने वाली कंपनी भारत में टाटा के साथ मिलकर इस महाविनाशक फाइटर जेट का निर्माण करेगी।

आपको बता दें कि बिजनेस टाइकून रतन टाटा के चेयरमैन रहते हुए टाटा ने भारतीय सेना के लिए मजबूत और टिकाऊ वाहनों के अलावा एंटी लैंडमाइन व्हीकल भी तैयार किए हैं, जो सालों से सेना में कार्यरत हैं। अमेरिका की कंपनी बोइंग के साथ चिनूक हेलीकॉप्टर और अपाचे हेलीकॉप्टर की जो डील साइन हुई थी, टाटा उसको मूर्त रूप दे रही है।

पिछले दिनों बोइंग ने चिनूक हेलीकॉप्टर के पार्ट्स सप्लाई किए थे, जिसके बाद इन दिनों टाटा की फैक्ट्री में इस विशालकाय हेलीकॉप्टर की असेंबलिंग की जा रही है। वहीं अपाचे हेलीकॉप्टर के पार्ट्स भी भारत आने शुरू हो गए हैं। टाटा की फैक्ट्री में अपाचे हेलीकॉप्टर का ढांचा तैयार किया जा रहा है।

रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार, आने वाले कुछ सालों में भारतीय वायुसेना को ये दोनों विनाशकारी हेलीकॉप्टर मिल जाएंगे। वहीं हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान भारत में एफ-16 फाइटर प्लेन को लेकर जो डील हुई थी, उसे भी टाटा ही पूरा करेगी।

टाटा ने इसके लिए अपनी फैक्ट्रियों में बदलाव शुरू कर दिए हैं। आने वाले कुछ महीनों में एफ-16 का निर्माण करने वाली कंपनी लॉकहिड मार्टिन के अधिकारी फैक्ट्री का जायजा लेंगे। उसके बाद भारत में एफ-16 विमानों का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा।

आपको बता दें कि टाटा कंपनी भारत के रक्षा क्षेत्र में बहुत पहले से कार्यरत है। टाटा इस वक्त सेना के लिए उन्नत श्रेणी की तोप का निर्माण भी कर रहा है। साथ ही सेना के काफिले के लिए तेज और मजबूत ट्रक के अलावा एंटी लैंडमाइन व्हीकल भी तैयार कर रहा है। बोइंग के साथ हुए सौदे के बाद से हैदराबाद के पास टाटा की एक फैक्ट्री में उन्नत श्रेणी का युद्धक लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे का निर्माण किया जा रहा है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *