साधारण जीवन जीते हैं UP के मुख्यमंत्री YOGI , नाश्ते में लेते हैं पपीता-दलिया और छाछ

योगी आदित्यनाथ की दिन की शुरुआत गौ सेवा के साथ होती है। सुबह उठकर योगी दैनिक नित्यकर्म से निवृत होने के बाद गायों को हरा चारा डालने जाते हैं। कहा जाता है कि योगी को जानवरों से बेहद लगाव है।

उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहचान कड़े रूख अपनाने वाले नेता की है, लेकिन भगवा धारण करने वाले योगी बेहद सरल और सादे तरीके से अपना जीवन व्यतीत करते हैं। सीएम बनने से पहले योगी के बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं थी, लेकिन अब उनकी बारे में कई बातें सामने आ रही है। योगी सादा जीवन जीने के साथ ही सादा भोजन भी करते हैं। योगी उबले हुए अनाज, पपीता, दलिया और छाछ के शौकीन है। वह सुबह नाश्ते में छाछ और पपीते के साथ उबला हुआ अनाज या फिर दलिया लेते हैं। आदित्यनाथ के अनुयायी उनके खाने-पीने की पसंद के बारे में अच्छे से जानते हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक उनके सहयोगी और हिंदू युवा वाहिनी के नेता अबरीष ने बताया, “छाच और पपीता महाराज जी के नाश्ते का अनिवार्य हिस्सा है। बता दें कि हिंदू युवा वाहिनी योगी आदित्यनाथ का अपना संगठन है।

उन्होंने बताया कि आदित्यनाथ के लिए छाछ मठ में ही तैयार किया था। वहीं, लंच में वह उबली हुई सब्जियों के साथ एक या दो रोटी खाते हैं। ज्यादातर वह अपने समर्थकों और सहयोगियों के साथ बैठकर खाना पसंद करते हैं। रात के खाने में आदित्यनाथ दो चपाती, दाल या फिर हरी सब्जी लेते हैं। कभी-कभी तो वह रात को खाना छोड़ देते हैं और उसकी जगह पर फल खाते हैं। खाने की तरह ही और कई चीजें है जो उन्हें दूसरे नेताओं से अलग बनाती है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक योगी आदित्यनाथ की दिन की शुरुआत गौ सेवा के साथ होती है। सुबह उठकर योगी दैनिक नित्यकर्म से निवृत होने के बाद गायों को हरा चारा डालने जाते हैं। कहा जाता है कि योगी को जानवरों से बेहद लगाव है। उनके आश्रम में एक लेब्राडोर नस्ल का कुत्ता है। जिसका नाम कालू है, वह उनको बहुत प्रिय है। इसी तरह आश्रम में एक बिल्ली भी है, जिससे योगी को लगाव है। कालू को पूरे आश्रम का रखवाला कहा जाता है। इस बात की पुष्टि योगी की सोशल मीडिया पर शेयर हुई तस्वीरें भी करती हैं। सोशल मीडिया पर कुत्ते, बिल्ली और शेर के बच्चे के साथ आदित्यनाथ की फोटो सामने आ चुकी है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *